CNG Full Form क्या है ? CNG की पूरी जानकारी जानें

दोस्तों मेरा नाम अंकित है,
आज कि इस पोस्ट में हम और आप जानेंगे कि cng full form kya hai

अगर आप भी जानना चाहते हैं कि cng full form kya hai तो इस पोस्ट को बिल्कुल अंत तक पढ़िए

cng full form kya hai
CNG full form hindi

क्योंकि इस पोस्ट में हम आपको cng full form के साथ-साथ सीएनजी की काफी सारी जानकारियां देने वाले हैं जैसे :- CNG क्या है, इसके क्या उपयोग है, CNG कैसे बनता है, इत्यादि।

तो आइए CNG की सारी जानकारियों पर गौर फरमाते हैं

CNG क्या है ?

CNG full form क्या है यह जानने से पहले यह जानना आवश्यक है कि CNG क्या है ?

CNG एक प्राकृतिक गैस है जो जमीन के भीतर पाई जाती है, इस गैस की खासियत यह है कि यह रंगहीन तथा गंधहीन गैस है

यह गैस प्रकृति के द्वारा निर्मित एक अद्भुत गैस है जो मुख्यतः जमीन की गहराइयों में छिपा होता है। इस गैस के नाम से ही यह सुरक्षित गैस ज्ञात होता है और सच्चाई भी यही है।

यह गैस मानव सभ्यता के लिए वरदान है क्योंकि इसके इस्तेमाल से किसी भी प्रकार की ऐसी गैस उत्पन्न नहीं होती जो कि मानव या अन्य जीव-जंतुओं को नुकसान पहुंचाए।

यह काफी शुद्ध है तथा इसे नंगी आंखों से देखने तथा इसे महसूस करने की चेष्टा कोई कर नहीं सकता क्योंकि इसमें ना तो रंग है और ना ही गंध है, यह एक अजीब किस्म का गैस है जो कि जमीन के भीतर दफना है।

CNG Full Form क्या है ?

CNG full form “Compressed Natural Gas” तथा इसका हिंदी रूपांतरण “संपीडित प्राकृतिक गैस” है

C – Compress
N – Natural
G – Gas

जैसा कि आपने सीएनजी का हिंदी तथा अंग्रेजी रूपांतरण पढा और इससे यह साफ जाहिर होता है कि यह एक प्रकार का गैस है जो कि प्रकृति के द्वारा प्राप्त होता है।

Compress का हिंदी मतलब “संपीडित” होता है। किसी भी चीज को मानव निर्मित दाब से किसी ऐसे चीज में रखना जिस का लंबाई, चौड़ाई तथा मोटाई सीमित हो तथा उसका तापमान भी निम्न हो।

CNG के लिए भी इसी घटना का संकेत होता है इस गैस को भी उच्च दाव तथा कम तापमान पर रखा जाता है जिसके परिणाम स्वरुप यह गैस से तरल रूप में परिवर्तित हो जाता है और उसके बाद इसका उपयोग किया जाता है।

CNG की उत्पत्ति कहां और कब हुई ?

सीएनजी की प्रथम खोज आज से लगभग 220 साल पहले हुई थी यानी CNG की खोज अमेरिका में सन 1800 ई में हुई थी।

उस समय टेक्नोलॉजी काफी पुरानी थी और फिर ऐसे गैस की खोज जिसका ना रंग है और ना ही गंध।

काफी समय तक इस गैस पर रिसर्च चला और पता लगाया गया कि अगर इस गैस का इस्तेमाल किया जाए तो यह अन्य ईंधन की अपेक्षा काफी कम प्रदूषण पैदा करती है

उसके बाद इस गैस को तरल बनाने के ऊपर काम किया गया ताकि इसे तरल बनाकर एक आकार में लाया जाए तथा इसका इस्तेमाल इंधन के रूप में किया जाए।

उसके बाद इसे काफी उच्च ताप तथा काफी निम्न तापमान पर इसे प्यूरिफाई करके तरल बनाया गया।

आज भारत अमेरिका तथा अन्य देश सीएनजी का इस्तेमाल काफी मात्रा में करते आ रहे हैं हालांकि उस समय भारत में इसको इस्तेमाल करने की तकनीक नहीं थी परंतु आज के समय में सभी बड़े-बड़े शहरों में लगभग गाड़ियां CNG की मदद से ही चलती है

CNG कैसे तैयार किया जाता है ?

CNG में मीथेन, ईथेन, प्रोपेन, ब्यूटेन जैसे कई गैस मिले होते हैं जिसमें मीथेन की मात्रा 90% होती है तथा बाकी 10% में और सभी गैस होते हैं।

चूँकि सीएनजी में मीथेन की मात्रा सबसे ज्यादा होती है इस वजह से इसे मीथेन गैस भी कहा जाता है

जैसे कि मैंने आपको पहले ही बताया कि सीएनजी एक रंगहीन तथा गंधहीन गैस है इस वजह से इसके रिसाव का पता नहीं चल सकता

इस वजह से इसमें Mercaptan को मिलाया जाता है ताकि इसमें गंध पैदा हो सके और अगर इसमें रिसाव हो तो इसका पता चल सके तथा उसे ठीक किया जा सके।

इसको जमीन के काफी भीतर से खनन के द्वारा निकाला जाता है तथा इसे एक बड़े ट्यूब में तरल रूप में रखा जाता है ताकि इसकी मात्रा का ज्ञात किया जा सके और इसके इस्तेमाल इंधन के रूप में किया जा सके।

CNG की खूबियां

  • CNG गैस अत्यधिक ज्वलनशील होता है
  • इस गैस का वजन काफी कम होता है
  • यह गैस हवा में अच्छी तरह घुल जाती है
  • यह रंगहीन गैस है
  • यह एक गंधहीन गैस है
  • यह हवा से हल्की होती है
  • सीएनजी गैस जहरीली नहीं होती है
  • इस गैस को जलाने पर यह हल्की नीली रंग पैदा करती है

CNG इस्तेमाल करने के फायदे

  • इसके इस्तेमाल से काफी कम प्रदूषण पैदा होता है पेट्रोल तथा अन्य ईंधन की तुलना में
  • इसका इस्तेमाल वाहनों की इंधन के रूप में प्रमुख रूप में किया जाता है जिससे पेट्रोल डीजल की खपत में रोक लगती है
  • CNG अन्य ईंधन की तुलना में ज्यादा चलती है और इससे ईंधन की कमी पर राहत मिलती है
  • सीएनजी एक प्राकृतिक गैस है इस वजह से इसकी तस्करी नहीं की जा सकती परंतु पेट्रोल डीजल में या खतरा हमेशा होता है।
  • सीएनजी गैस ब्लैक में नहीं बेचा जा सकता यह केवल सरकार के द्वारा प्राप्त किया जा सकता जिसका मुख्य संग्रह CNG pump पर होते हैं।
  • सीएनजी की आयात-निर्यात में कम खर्च होते हैं क्योकि यह हल्की होती है इस वजह से इसे भारी मात्रा में एक साथ लाया तथा भेजा जा सकता है
  • सीएनजी गैस वाहनों के इंजन को पेट्रोल तथा डीजल की अपेक्षा में कम नुकसान पहुंचाती है
  • इस गैस को वाहन में इस्तेमाल करने पर पेट्रोल तथा अन्य ईंधन की तुलना में कम प्रदूषण पैदा करती है
  • CNG का भंडारण अन्य ईंधन की अपेक्षा ज्यादा है

CNG के उपयोग

  • सीएनजी यानी प्राकृतिक संपदा गैस का इस्तेमाल प्रमुख रूप से वाहनों के इंधन के रूप में किया जाता है
  • चूँकि यह एक प्राकृतिक गैस है इस वजह से इस गैस के उपयोग से किसी तरह के खतरे की कोई गुंजाइश नहीं होती
  • इस गैस को गाड़ियों में डाला जाता है जो कि तरल रूप में होता है और यह गाड़ियों के ईंधन के रूप में काम करता है जिससे गाड़ियों का इंजन इसके प्रभाव से चलने लगता है
  • CNG का उपयोग अभी वाहनों में किया जा रहा है परंतु इसका इस्तेमाल सभी प्रकार के ऐसे मशीनों में किया जा सकता है जो ईंधन से चलती हो।

CNG तथा LPG में अंतर

1.) CNG का निर्माण मुख्य रूप से मीथेन गैस से होता है जबकि LPG का निर्माण कई प्रकार के गैस को मिलाकर किया जाता है।

2.) सीएनजी को निम्न तापमान पर तरल रूप में लाया जाता है परंतु एलपीजी को उचित तापमान पर तरल रूप में लाया जाता है।

3.) CNG का इस्तेमाल मुख्य रूप से वाहनों के ईंधन के रूप में किया जाता है परंतु LPG का इस्तेमाल मुख्य रूप से घरों की रसोइयों में खाना पकाने के लिए किया जाता है।

4.) सीएनजी के रिसाव से ज्यादा खतरा नहीं होता जबकि एलपीजी के रिसाव से काफी मात्रा में क्षति हो सकती है

CNG तथा Petrol में अंतर

1.) CNG को जमीन के भीतर से गैस अवस्था में निकाला जाता है परंतु पेट्रोल को जमीन के भीतर से तरल अवस्था में प्राप्त किया जाता है।

2.) सीएनजी को संपीडित करके तरल रूप में लाया जाता है परंतु पेट्रोल को तरल अवस्था में ही रिफाइन करके बनाया जाता है

3.) सीएनजी की कीमत पेट्रोल की अपेक्षा काफी कम है

4.) सीएनजी का भंडारण पेट्रोल की तुलना में ज्यादा है

5.) सीएनजी के निर्माण में पेट्रोल की अपेक्षा कम लागत लगती है।

6.) सीएनजी भार में पेट्रोल की अपेक्षा हल्का होता है इस वजह से इसे काफी आसानी से लाया तथा ले जाया जा सकता है।

7.) सीएनजी पेट्रोल की अपेक्षा वातावरण के लिए लाभदायक है।

आपके कुछ प्रश्न तथा उसके उत्तर

Q-1.) CNG full form क्या है ?

Answer –

CNG full form “Compressed Natural Gas” है तथा इसका हिंदी में रूपांतरण “संपीड़ित प्राकृतिक गैस” है।

Q-2.) CNG का इस्तेमाल कैसे होता है

Answer –

CNG का मुख्य उपयोग वाहनों के ईंधन के रूप में किया जाता है इससे वाहनों के इंजन को हानि नहीं होती।

Q-3.) सीएनजी के इस्तेमाल में मुख्य रूप से क्या लाभ होता है ?

Answer –

सीएनजी के इस्तेमाल से फायदा यह है कि यह जहरीली गैस पैदा नहीं करती तथा इस वजह से इसके इस्तेमाल से प्रकृति को खतरा नहीं है साथ ही यह अन्य ईंधन की अपेक्षा ज्यादा टिकाऊ तथा ज्यादा सस्ती है।

Q-4.) सीएनजी में कौन सी गैस मुख्य रूप से पाई जाती हैं ?

Answer –

CNG में मुख्य रूप से मीथेन गैस पाए जाते हैं जिसकी मात्रा 90% है साथ ही इसमें एथेन, प्रोपेन समेत कई गैस मिश्रित होते हैं।

Conclusion

दोस्तों इस पोस्ट में हमने जाना कि cng full form क्या है

साथ ही इस पोस्ट में हमने CNG के बारे में सारी जानकारियां प्राप्त की जैसे :- सीएनजी क्या है, सीएनजी के उपयोग, सीएनजी की खूबियां, सीएनजी का निर्माण, इत्यादि।

आशा करता हूं आपको इस पोस्ट से सारी जानकारियां प्राप्त हुई होगी साथ ही आपको आपके प्रश्न का उत्तर मिल चुका होगा कि cng full form क्या है

इसे भी पढें :-

1 thought on “CNG Full Form क्या है ? CNG की पूरी जानकारी जानें”

Leave a Comment

x