DSP full form kya hai :- डीएसपी की सारी जानकारीयाँ

दोस्तों मेरा नाम अंकित है,
आज की इस पोस्ट में हम और आप जानेंगे कि DSP Full Form kya hai ( DSP Full Form in hindi ) अगर आप भी जानना चाहते हैं कि DSP full form kya hai या DSP kya hai तो इस पोस्ट को बिल्कुल अंत तक जरूर पढ़ें।

क्योंकि इस पोस्ट में हम आपको DSP full form kya hai तो बताएंगे ही साथ ही डीएसपी के बारे में सारी जानकारियां भी देंगे जैसे DSP kya hai, DSP कैसे बनता है, DSP के क्या कार्य है, DSP की मासिक आय कितनी है, DSP को क्या-क्या सुविधा मिलती है, इत्यादि।

आशा करता हूं इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के उपरांत आपको DSP के बारे में सारी जानकारियां मिल जाएगी साथ ही आपको यह भी समझ आ जाएगा कि DSP full form kya hai ( DSP full form in hindi )

DSP full form in hindi
DSP Full Form kya hai

DSP क्या है

DSP पुलिस प्रशासन के एक विशेष पदों में से एक है जिसके अंतर्गत पूरे जिले की प्रशासनिक अधिकार होता है DSP के ऊपर एसपी होते हैं जो डीएसपी को किसी कार्य के लिए आदेश प्रदान कर सकते हैं। एसपी की अनुपस्थिति में डीएसपी के ऊपर SP के कार्यों का भार होता है तथा पूरा अधिकार भी होता है।

जिस प्रकार मुख्यमंत्री तथा उपमुख्यमंत्री किसी भी एक राज्य के सर्वोपरि होते हैं तथा मुख्यमंत्री की अनुपस्थिति में उप मुख्यमंत्री ही मुख्यमंत्री की पद पर विराजमान होते हैं ठीक उसी प्रकार SP किसी भी एक जिले की प्रशासनिक प्रमुख अधिकारी होते हैं और DSP उनकी अनुपस्थिति या उनके आदेशों पर काम करते हैं।

DSP के अंतर्गत जिले के सभी पुलिस अधिकारी कार्यरत होते हैं तथा उनके आदेशों का निष्ठा पूर्वक पालन करते हैं इनके ऊपर काफी जिम्मेदारी होती है और इन्हें उन जिम्मेदारी का ईमानदारी से पालन करना होता है।

DSP के कार्य अपने जिले के अंतर्गत आने वाली सभी समस्याओं का समाधान करवाना, अपने जिले की हर एक पुलिस प्रशासन के कार्यों की जांच करना, जिले में हो रही गड़बड़ी का जायजा लेना, जिले की शांति व्यवस्था को बनाए रखना है।

DSP का पद काफी उच्च पद होता है जिसे प्राप्त करने के लिए काफी मुश्किलों का सामना करना होता है, यह पद परीक्षाओ तथा पदोन्नति के आधार पर प्राप्त किया जाता है और इस पद को प्राप्त करने वाला व्यक्ति अक्सर एक वरिष्ठ नागरिक होता है क्योंकि यह पद काफी अनुभवी और जिम्मेदार इंसान के हाथ में जाता है ताकि वह व्यक्ति राज्य की कानून व्यवस्था को बनाए रख सके।

DSP Full Form kya hai ( DSP Full Form in Hindi )

DSP full form “Deputy Superintendent of Police” है तथा इस का हिंदी रूपांतरण “उप पुलिस अधीक्षक” है

D – Deputy
S – Superintendent
P – Police

DSP कैसे बनता है

जैसा कि मैंने आपको बताया कि DSP का पद काफी मुख्य पद तथा जिम्मेदारी का पद होता है इस वजह से इस पद को प्राप्त करना सरल नहीं हो सकता।

डीएसपी बनने से पहले आपको 12 वीं कक्षा के उपरांत स्नातक की डिग्री लेनी आवश्यक है अगर आपने अभी तक स्नातक नहीं किया है तो स्नातक करें और स्नातक की डिग्री आप आर्ट के विषय से ले सकते हैं

अगर आपने स्नातक करने से पहले ही यह सोच रखा है कि आगे चलकर आपको डीएसपी का पद प्राप्त करना है तो स्नातक आप आर्ट के विषय से पूरा करें। अगर आपने स्नातक की पढ़ाई पूरी कर ली है और आपने स्नातक आर्ट से नहीं बल्कि किसी और विषय से ली है तो घबराएं नहीं आप फिर भी डीएसपी के पद को प्राप्त कर सकते हैं

स्नातक पूर्ण करने के उपरांत आप DSP प्रवेश परीक्षा के योग्य हो जाते हैं अब आप इस प्रवेश परीक्षा में भाग ले सकते हैं।

DSP बनने के लिए योग्यताएं

जैसा कि हम सभी को ज्ञात है कि प्रत्येक सरकारी तथा गैर सरकारी पद को प्राप्त करने के लिए कुछ ना कुछ योग्यताएं निर्धारित होती है और उन योग्यताओं के आधार पर किसी भी व्यक्ति को वह पद प्रदान किया जाता है उसी प्रकार डीएसपी के पद को पाने के लिए हमारे पास कुछ निश्चित योग्यताएं होनी जरूरी है परिणाम स्वरूप आप उस पद को प्राप्त कर सकेंगे

DSP बनने के लिए कुछ महत्वपूर्ण योग्यताएं इस प्रकार हैं :-

  • डीएसपी पद के उम्मीदवार व्यक्ति के पास स्नातक उत्तीर्ण डिग्री अवश्य होनी चाहिए।
  • डीएसपी पद के उम्मीदवार छात्र को डीएसपी की प्रमुख प्रवेश परीक्षा से गुजरना होगा साथ ही उन परीक्षाओं में उत्तीर्ण भी होना होगा।
  • उम्मीदवार छात्र अवश्य एक भारतीय नागरिक हो, चाहे वह किसी भी राज्य के निवासी हो वह किसी भी राज्य की डीएसपी प्रवेश परीक्षाओं में भाग ले सकते हैं।
  • छात्र की न्यूनतम आयु 21 वर्ष तथा अधिकतम आयु 30 वर्ष होनी चाहिए।
  • आधार कार्ड, पैन कार्ड, आवासीय, आय प्रमाण पत्र आदि जरूरी दस्तावेजों का होना अनिवार्य है।
  • पुरुष छात्र की न्यूनतम छाती 80 सेंटीमीटर होनी जरूरी है।
  • डीएसपी बनने के इच्छुक छात्र के न्यूनतम ऊंचाई 168 सेंटीमीटर तथा छात्रा की न्यूनतम ऊंचाई 155 सेंटीमीटर होना अनिवार्य है।

DSP बनने के लिए परीक्षाएं

DSP पद को प्राप्त करने के लिए छात्रों को प्रमुख तीन परीक्षाओं से गुजरना होता है। तीनों परीक्षाओं में उत्तीर्ण होने के उपरांत आप डीएसपी के पद के लिए तैयार हो जाते हैं, परिणाम स्वरूप आपको डीएसपी बना दिया जाता है।

डीएसपी पद को प्राप्त करने के लिए तीनों परीक्षाओं निम्नलिखित है :-

प्रारंभिक परीक्षा

डीएसपी पद को प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आपको इसकी प्रारंभिक परीक्षा में दाखिल होना पड़ता है इस परीक्षा में मुख्यतः एक ही विषय होते हैं जो आपको बहुविकल्पीय प्रश्नों के साथ मिलते हैं

इस परीक्षा में आपको सामान्य अध्ययन से जुड़े प्रश्नों का सामना करना होता है जिसके लिए मूलांक 150 निर्धारित किया गया है

अगर आप इस परीक्षा में अपनी इच्छा अनुसार विषय का चयन करना चाहते हैं तो उस विषय की अंक सीमा बढ़ाकर 300 हो जाती है।

मुख्य परीक्षा

प्रारंभिक परीक्षा में सफलता पूर्वक उत्तीर्ण होने के परिणाम स्वरुप परीक्षार्थी को इसके मुख्य परीक्षा से होकर गुजरना होता है, इस परीक्षा में मुख्य चार विषय निर्धारित किए गए हैं :- हिंदी, अंग्रेजी, निबंध, अन्य। सभी प्रश्न की कुल अंक सीमा 1100 होती है, आपको इस परीक्षा को देना होता है तथा उत्तीर्ण होना होता है।

साक्षात्कार

प्रारंभिक परीक्षा तथा मुख्य परीक्षा में सफल होने के परिणाम स्वरूप आपको इस परीक्षा की आखिरी पड़ाव साक्षात्कार से होकर गुजरना होता है। साक्षात्कार में आपको मौखिक सवालों से होकर गुजरना होता है इसमें आपकी मानसिक जाँच ली जाती है। साक्षात्कार में सफलतापूर्वक पास होने के बाद आप DSP बनने के लिए पूर्णता तैयार हो जाते हैं।

DSP की मासिक आय

DSP का पद काफी जिम्मेदारी से भरा पद है इस वजह से इनके काम और छुट्टियों के बीच में ज्यादा फर्क नहीं होता डीएसपी को छुट्टियों के समय में भी कामों से घिरा रहना पड़ता है यही कारण है कि इनको काफी अच्छी सैलरी तथा काफी अच्छी सुविधाएं प्रदान की जाती है।

DSP की मूल वेतन करीब 9300/- से 34800/- के बीच में हो सकती है साथ ही DA/PA अलग से दी जाती है। यह सैलरी इनके नौकरी की आयु तथा काम के आधार पर तय की जाती है और समय तथा महंगाई के साथ-साथ वेतन बढ़ता रहता है।

DSP को मिलने वाली सुविधाएं

जैसा कि मैंने आपको पहले ही बताया कि यह पद साधारण पद नहीं है इस वजह से इस पद पर बैठने वाला व्यक्ति हमेशा मानसिक तथा शारीरिक तनाव से घिरा रहता है यही मुख्य कारण है कि डीएसपी को काफी अच्छी सैलरी के साथ-साथ काफी सारी सुविधाएं अलग से प्रदान की जाती है।

DSP को मिलने वाले प्रमुख सुविधाएं इस प्रकार है :-

  • एक डीएसपी को पद के प्राप्त होते ही एक सरकारी आवास पदकाल के समाप्त होने तक मुफ्त में प्रदान की जाती है।
  • डीएसपी का फोन बिल सरकार के द्वारा मुफ्त में प्रदान की जाती है।
  • डीएसपी की सेवा अवधि के शुरू होते ही सरकार के द्वारा काम की सिलसिले में कहीं जाने और आने के लिए वाहन दिया जाता है जिसमें बैठकर वह कहीं जा सके।
  • इसके साथ ही उनकी सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड भी दिया जाता है।
  • डीएसपी को उनके आवास के साथ-साथ आवास के लिए नौकर तथा माली भी दिया जाता है जो उनकी सेवा में सदैव तत्पर रहते हैं।

DSP के प्रमुख कार्य

इतनी सुविधाओं से लैस एक डीएसपी की कार्यों के बारे में जानने की इच्छा हर इंसान में सदैव होती है खासकर वह व्यक्ति जो इस पद को पाने की चाह हमेशा रखता हो तथा इस पद को प्राप्त करने के लिए दिन रात मेहनत करता हो।

DSP के प्रमुख कार्य इस प्रकार है :-

  • अपने क्षेत्र में शांति व्यवस्था को बरकरार रखना एक डीएसपी अधिकारी का मूल कर्तव्य है।
  • अपने अंतर्गत सेवा कर रहे प्रशासनिक अधिकारी के कार्यों की जांच करना तथा उन्हें उनके पद के हिसाब से काम करने की अनुमति देना एक डीएसपी का कार्य होता है।
  • अपने क्षेत्रों में हो रही अपराधिक गतिविधियों की जांच करना तथा उन्हें रोकना एक डीएसपी अधिकारी का मुख्य कर्तव्य होता है।
  • डीएसपी का काम अपने क्षेत्र के निरंतर देखरेख करना तथा सभी कामों की समय-समय पर जांच करना है।

FAQ

Q. 1) DSP Full Form क्या है ?

Answer – DSP full form “Deputy Superintendent of Police” है तथा हिंदी में इसे “उप पुलिस अधीक्षक” कहते हैं।

Q. 2) DSP बनने के लिए कुल कितने परीक्षाएं होते हैं ?

Answer – DSP के पद को प्राप्त करने के लिए आपको कुल 3 परीक्षाओं से सफलतापूर्वक गुजरना होता है जिसमें पहला प्रारंभिक परीक्षा 150 अंक का होता है दूसरा मुख्य परीक्षा 1100 अंक का होता है तथा तीसरा साक्षात्कार है।

Q. 3) एक DSP का वेतन कितना होता है ?

Answer – एक DSP का मूल वेतन 9300 से 34800 तक हो सकता है जिसमें DA और PA अलग से जोड़ा जाता है। मूल वेतन के साथ-साथ डीएसपी को काफी सुविधाएं अलग से दी जाती है जैसे :- गाड़ी, गार्ड, आवास, माली, बिजली बिल, टेलीफोन बिल, इत्यादि।

Q. 4) DSP का मुख्य कार्य क्या है ?

Answer – अपने क्षेत्र में शांति व्यवस्था को बनाए रखना है तथा अपने क्षेत्र में हो रही अपराधिक गतिविधियों की जांच करना और उसे नियंत्रित करना ही एक DSP अधिकारी का मूल कर्तव्य होता है। इसके साथ-साथ डीएसपी के कार्य अपने अंतर्गत काम कर रहे पुलिस अधिकारी को कार्यों की जांच करना भी है।

Conclusion

दोस्तों इस पोस्ट में हमने जाना कि DSP full form kya hai या DSP full form in hindi साथ ही हमने DSP के बारे में लगभग सभी जानकारियां प्राप्त की जैसे :- DSP क्या है, DSP कैसे बनता है, DSP के लिए कैसे पढ़ें, DSP के कार्य क्या है, DSP की सैलरी कितनी है, इत्यादि।

आशा करता हूं इस पोस्ट से आपको DSP के बारे में सभी सही जानकारियां प्राप्त हो चुकी होगी साथ ही आपको आपके प्रश्नों के भी उत्तर मिल गए होंगे कि DSP full form kya hai

इसे भी पढें :-

Leave a Comment